कभी हम भी आकाश में उड़कर's image
1 min read

कभी हम भी आकाश में उड़कर

Gulab KhandelwalGulab Khandelwal
0 Bookmarks 67 Reads0 Likes

कभी हम भी आकाश में उड़कर
सूरज को छूने चले थे, ओ जटायु!
अब हमारे पंख झुलस चुके हैं,
चुक गयी है समस्त प्राणवायु;
लगता है, अब धरती पर सिसकते हुए
बितानी होगी शेष आयु.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts