द्वार में द्वार में द्वार's image
1 min read

द्वार में द्वार में द्वार

Gulab KhandelwalGulab Khandelwal
0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

द्वार में द्वार में द्वार,
ओ देवता!
तेरी मूर्ति कहाँ है?
मैं अब थककर मंदिर की चौखट पर बैठ गया हूँ,
किससे पूछूँ पता?

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts