मानव कवि बन जाता है's image
1 min read

मानव कवि बन जाता है

Gopaldas NeerajGopaldas Neeraj
0 Bookmarks 219 Reads0 Likes

तब मानव कवि बन जाता है!
जब उसको संसार रुलाता,
वह अपनों के समीप जाता,
पर जब वे भी ठुकरा देते
वह निज मन के सम्मुख आता,
पर उसकी दुर्बलता पर जब मन भी उसका मुस्काता है!
तब मानव कवि बन जाता है!

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts