हाइकु रचना's image
1 min read

हाइकु रचना

Gopaldas NeerajGopaldas Neeraj
0 Bookmarks 87 Reads0 Likes


जन्म मरण
समय की गति के
हैं दो चरण

वो हैं अकेले
दूर खडे होकर
देखें जो मेले

मेरी जवानी
कटे हुये पंखों की
एक निशानी

हे स्वर्ण केशी
भूल न यौवन है
पंछी विदेशी

वो है अपने
देखें हो मैने जैसे
झूठे सपने

किससे कहें
सब के सब दुख
खुद ही सहें

हे अनजानी
जीवन की कहानी
किसने जानी

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts