ग़ज़लों से चुनिंदा शेर's image
1 min read

ग़ज़लों से चुनिंदा शेर

Gopaldas NeerajGopaldas Neeraj
0 Bookmarks 593 Reads0 Likes

अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए
जिस में इंसान को इंसान बनाया जाए


जितना कम सामान रहेगा
उतना सफ़र आसान रहेगा

 

है बहुत अँधियार अब सूरज निकलना चाहिए
जिस तरह से भी हो ये मौसम बदलना चाहिए


बड़ा न छोटा कोई फ़र्क़ बस नज़र का है
सभी पे चलते समय एक सा कफ़न देखा

 

मेरे घर कोई ख़ुशी आती तो कैसे आती
उम्र-भर साथ रहा दर्द महाजन की तरह


ख़ुशबू सी आ रही है इधर ज़ाफ़रान की 
खिड़की खुली है फिर कोई उन के मकान की 

 
शराब कर के पिया उस ने ज़हर जीवन भर
हमारे शहर में 'नीरज' सा कोई मस्त न था


ज़िंदगी भर मैं जिसे देख कर इतराता रहा 
मेरा सब रूप वो मिट्टी का धरोहर निकला 
 
किसे पता है कि कब तक रहेगा ये मौसम 
रखा है बाँध के क्यूँ मन को रंग फिर यारो


वो दिल मे ही छिपा है, सब जानते हैं लेकिन
क्यूं भागते फ़िरते हैं, दायरो-हरम के पीछे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts