फिर वो नज़र है इज़्न-ए-तमाशा लिए हुए's image
1 min read

फिर वो नज़र है इज़्न-ए-तमाशा लिए हुए

Gopal MittalGopal Mittal
0 Bookmarks 39 Reads0 Likes

फिर वो नज़र है इज़्न-ए-तमाशा लिए हुए

तज्दीद-ए-आरज़ू का तक़ाज़ा लिए हुए

चश्म-ए-सियह में मस्तियाँ शाम-ए-विसाल की

आरिज़ फ़रोग़-ए-सुब्ह-ए-नज़ारा लिए हुए

हर एक शख़्स तर्क-ए-तमन्ना का मुद्दई'

हर एक शख़्स तेरी तमन्ना लिए हुए

कल शब तुलू-ए-माह का मंज़र अजीब था

तुम जैसे आ गए रुख़-ए-ज़ेबा लिए हुए

दिल आज तक है लुत्फ़-ए-फ़रावाँ से शर्मसार

लब आज तक हैं आप का शिकवा लिए हुए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts