दिल जलाने से कहाँ दूर अंधेरा होगा's image
1 min read

दिल जलाने से कहाँ दूर अंधेरा होगा

Gopal MittalGopal Mittal
0 Bookmarks 96 Reads0 Likes

दिल जलाने से कहाँ दूर अंधेरा होगा

रात ये वो है कि मुश्किल से सवेरा होगा

क्यूँ न अब वज़-ए-जुनूँ तर्क करें लौट चलें

उस से आगे जो है जंगल वो घनेरा होगा

ये ज़रूरी तो नहीं इतना भी ख़ुश-फ़हम न बन

वो ज़माना जो न मेरा है न तेरा होगा

इतना भी संग-ए-मलामत से डरा मत नासेह

सर सलामत है तो इस शहर का फेरा होगा

ख़िदमत-ए-राज-महल पर उन्हें देखा मामूर

जो ये कहते थे कि सरदार बसेरा होगा

राह-ए-पुर-पेच को सहल इतना बताने वाला

राहबर हो नहीं सकता है लुटेरा होगा

वो भी इंसान है ऐ दिल उसे इल्ज़ाम न दे

जाने उस को भी किन आफ़ात ने घेरा होगा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts