दौर-ए-फ़लक के शिकवे गिले रोज़गार के's image
1 min read

दौर-ए-फ़लक के शिकवे गिले रोज़गार के

Gopal MittalGopal Mittal
0 Bookmarks 66 Reads0 Likes

दौर-ए-फ़लक के शिकवे गिले रोज़गार के

हैं मश्ग़ले यही दिल-ए-ना-कर्दा-कार के

यूँ दिल को छेड़ कर निगह-ए-नाज़ झुक गई

छुप जाए कोई जैसे किसी को पुकार के

सीने को अपने अपना गरेबाँ बना के हम

क़ाएल नहीं हैं पैरहन-ए-तार-तार के

क्या कीजिए कशिश है कुछ ऐसी गुनाह में

मैं वर्ना यूँ फ़रेब में आता बहार के

इक दिल और उस पे हसरत-ए-अरमाँ का ये हुजूम

क्या क्या करम हैं मुझ पे मिरे कर्दगार के

हम को तो रोज़-ए-हश्र का भी कुछ यक़ीं नहीं

क्या मुंतज़िर हूँ वादा-ए-फ़र्दा-ए-यार के

किस दिल से तेरा शिकवा-ए-बेदाद कर सकें

मारे हुए हैं हम निगह-ए-शर्मसार के

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts