वो चाँदनी रात और वो मुलाक़ात का's image
1 min read

वो चाँदनी रात और वो मुलाक़ात का

Ghulam HamdaniGhulam Hamdani
0 Bookmarks 54 Reads0 Likes

वो चाँदनी रात और वो मुलाक़ात का आलम

क्या लुत्फ़ में गुज़रा है ग़रज़ रात का आलम

जाता हूँ जो मज्लिस में शब उस रश्क-ए-परी की

आता है नज़र मुझ को तिलिस्मात का आलम

बरसों नहीं करता तू कभू बात किसू से

मुश्ताक़ ही रहता है तिरी बात का आलम

कर मजलिस-ए-ख़ूबाँ में ज़रा सैर कि बाहम

होता है अजब उन के इशारात का आलम

दिल उस का न लोटे कभी फूलों की सफ़ा पर

शबनम को दिखा दूँ जो तिरे गात का आलम

हम लोग सिफ़ात उस की बयाँ करते हैं वर्ना

है वहम ओ ख़िरद से भी परे ज़ात का आलम

वो काली घटा और वो बिजली का चमकना

वो मेंह की बौछाड़ें वो बरसात का आलम

देखा जो शब-ए-हिज्र तो रोया मैं कि उस वक़्त

याद आया शब-ए-वस्ल के औक़ात का आलम

हम 'मुसहफ़ी' क़ाने हैं ब-ख़ुश्क-ओ-तर-ए-गीती

है अपने तो नज़दीक मुसावात का आलम

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts