आशिक़ तो मिलेंगे तुझे इंसाँ न मिलेगा's image
1 min read

आशिक़ तो मिलेंगे तुझे इंसाँ न मिलेगा

Ghulam HamdaniGhulam Hamdani
0 Bookmarks 31 Reads0 Likes

आशिक़ तो मिलेंगे तुझे इंसाँ न मिलेगा

मुझ सा तो कोई बंदा-ए-फ़रमाँ न मिलेगा

हूँ मुंतज़िर-ए-लुत्फ़ खड़ा कब से इधर देख

क्या मुझ को दिल ऐ तुर्रा-ए-जानाँ न मिलेगा

कहने को मुसलमाँ हैं सभी काबे में लेकिन

ढूँडोगे अगर एक मुसलमाँ न मिलेगा

नासेह इसे सीना है तो अब सी ले वगरना

फिर फ़स्ल-ए-गुल आए ये गरेबाँ न मिलेगा

रहने के लिए हम से गुनहगारों के या रब

क्या शहर-ए-अदम में कोई ज़िंदाँ न मिलेगा

होने की नहीं तेरी ख़ुशी सर्व-ख़िरामाँ

ता ख़ाक में ये बे-सर-ओ-सामाँ न मिलेगा

दिल उस से तू माँगे है अबस 'मुसहफ़ी' हर दम

क्या फ़ाएदा इसरार का नादाँ न मिलेगा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts