गर टूट गए तो हार गए's image
1 min read

गर टूट गए तो हार गए

Gauhar RazaGauhar Raza
0 Bookmarks 365 Reads0 Likes

 

जब मेरे वतन की गलियों में

ज़ुल्मत ने पंख पसारे थे

और रात के काले बादल ने

हर शहर में डेरा डाला था

जब बस्ती-बस्ती दहक उठी

यूँ लगता था, सब राख हुआ

यूँ लगता था, महशर है बरपा

और रात के ज़ालिम साए से

बचने का कोई यारा भी ना था

सदियों में तराशा था जिस को

इंसान के अनथक हाथों ने

तहज़ीब के उस गहवारे में

हर फूल दहकता शोला था

 

जब नाम-ए-खुदा ईंधन की तरह

भट्टी में जलाया जाने लगा

और ‘नेक खुदा’ के सब बन्दे

‘मरदूद-ए-हरम ठहराये गए’

जब खून की होली, रस्म बनी

और मकतल गाहें आम हुईं

बरबरीयत, वहशत फन ठहरी

इस फन की बज़्में आम हुईं

 

जब शौहर, बेटे, भाई, पिदर

सब नाम-ए-खुदा के काम आए

आवाज़ थी इक इंसान की भी

इस शोर के बीहड़ जंगल में

जो मिटने को तैयार न थी

जो ज़हनों को गरमाती रही

जो छलनी जिस्म से कहती रही

उठ, हाथ बढ़ा हाथों को पकड़

लाखों हैं यहाँ तेरे जैसे

 

इस जंग को जारी रखना है

गर टूट गए तो हार गए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts