ओ मेरे प्रपिता's image
2 min read

ओ मेरे प्रपिता

Ganga Prasad VimalGanga Prasad Vimal
0 Bookmarks 219 Reads0 Likes

ओ मेरे प्रपिता
दूरस्थ प्रपिता
सौ साल से भी उपर होंगे
उस उत्सव दिन की शाम को
जब तुमने दिया था मुझे
नाम.
यही तो है बूढ़े चरवाहे की कथा
तुमने प्यार किया सुन्दरी को
पर उसका बाप था थुलथुल महाजन
और दे दी लड़की एक तुर्क को
पैसों के लिए
लेकिन उत्सव दिन ही था
जब विवाह के ढोल डगमगाना शुरू हुए थे
तुमने छीन ली थी लड़की
उनके कब्जे से
साथ ही
मार दिया था दूल्हा अपने मुक्के से
और कसमें खाते हैं चरवाहे
कि तुमने मार दिया था उसे
बाएँ हाथ से ही
बस तभी से रह गया
छुटका-सा नाम
जो रक्षित करता है हमारा सम्मान
'खपचू' (बाएँ हाथ से काम करने वाला)
वाह, मेरे दादा!
दूर गये प्रपितामह!
तुम्हारा ही खून बहता है मेरी नसों में
और मुझे दिया गया है तुम्हारा नाम......
दो मुझे अपनी प्राचीनता
और शक्ति
इसलिए कि जब उकता जाऊँ
हस्तक्षेप से
या डुबाने वाली गप्पों से
नहीं हो सकता आज्ञाकारी
न सुन सकता हूँ आदेश
बन्द करता हूँ उन्हें अपने मुक्के से
बदमाश
बकवादी
तो देता हूँ भयानक लताड़
किसी के मान का मूल्य क्या है.
क्योंकि जिसे प्यार किया था और करता हूँ
किसी को भी नहीं
दादा
उसे नहीं देता समर्पण
अच्छा होता खत्म ही कर देता
इस सिर को
पर इसे होना ही है
सम्मान के निमित्त.

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts