कोई पैग़ाम-ए-मोहब्बत लब-ए-एजाज़ तो दे's image
2 min read

कोई पैग़ाम-ए-मोहब्बत लब-ए-एजाज़ तो दे

Firaq GorakhpuriFiraq Gorakhpuri
0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

कोई पैग़ाम-ए-मोहब्बत लब-ए-एजाज़ तो दे

मौत की आँख भी खुल जाएगी आवाज़ तो दे

मक़्सद-ए-इश्क़ हम-आहंगी-ए-जुज़्व-ओ-कुल है

दर्द ही दर्द सही दिल बू-ए-दम-साज़ तो दे

चश्म-ए-मख़मूर के उनवान-ए-नज़र कुछ तो खुलें

दिल-ए-रंजूर धड़कने का कुछ अंदाज़ तो दे

इक ज़रा हो नशा-ए-हुस्न में अंदाज़-ए-ख़ुमार

इक झलक इश्क़ के अंजाम की आग़ाज़ तो दे

जो छुपाए न छुपे और बताए न बने

दिल-ए-आशिक़ को इन आँखों से कोई राज़ तो दे

मुंतज़िर इतनी कभी थी न फ़ज़ा-ए-आफ़ाक़

छेड़ने ही को हूँ पुर-दर्द ग़ज़ल साज़ तो दे

हम असीरान-ए-क़फ़स आग लगा सकते हैं

फ़ुर्सत-ए-नग़्मा कभी हसरत-ए-परवाज़ तो दे

इश्क़ इक बार मशिय्यत को बदल सकता है

इंदिया अपना मगर कुछ निगह-ए-नाज़ तो दे

क़ुर्ब ओ दीदार तो मालूम किसी का फिर भी

कुछ पता सा फ़लक-ए-तफ़रक़ा-पर्दाज़ तो दे

मंज़िलें गर्द की मानिंद उड़ी जाती हैं

अबलक़-ए-दहर कुछ अंदाज़-ए-तग-ओ-ताज़ तो दे

कान से हम तो 'फ़िराक़' आँख का लेते हैं काम

आज छुप कर कोई आवाज़ पर आवाज़ तो दे

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts