चलती साँसों को जाम करने लगा's image
1 min read

चलती साँसों को जाम करने लगा

Fehmi Badayuni(फ़हीम बँदायुनी)Fehmi Badayuni(फ़हीम बँदायुनी)
0 Bookmarks 54 Reads0 Likes

चलती साँसों को जाम करने लगा
वो नज़र से कलाम करने लगा

रात फ़रहाद ख़्वाब में आया
और फ़र्शी सलाम करने लगा

फिर मैं ज़हरीले कार-ख़ानों में
ज़िंदा रहने का काम करने लगा

साफ़ इंकार कर नहीं पाया
वो मिरा एहतिराम करने लगा

लैला घर में सिलाई करने लगी
क़ैस दिल्ली में काम करने लगा

हिज्र के माल से दिल-ए-नादाँ
वस्ल का इंतिज़ाम करने लगा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts