इक फ़साना सुन गए इक कह गए's image
1 min read

इक फ़साना सुन गए इक कह गए

Fani BadayuniFani Badayuni
0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

इक फ़साना सुन गए इक कह गए

मैं जो रोया मुस्कुरा कर रह गए

या तिरे मोहताज हैं ऐ ख़ून-ए-दिल

या इन्हीं आँखों से दरिया बह गए

मौत उन का मुँह ही तकती रह गई

जो तिरी फ़ुर्क़त के सदमे सह गए

तू सलामत है तो हम ऐ दर्द-ए-दिल

मर ही जाएँगे जो जीते रह गए

फिर किसी की याद ने तड़पा दिया

फिर कलेजा थाम कर हम रह गए

उठ गए दुनिया से 'फ़ानी' अहल-ए-ज़ौक़

एक हम मरने को ज़िंदा रह गए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts