हर घड़ी इंक़लाब में गुज़री's image
1 min read

हर घड़ी इंक़लाब में गुज़री

Fani BadayuniFani Badayuni
0 Bookmarks 46 Reads0 Likes

हर घड़ी इंक़लाब में गुज़री

ज़िंदगी किस अज़ाब में गुज़री

शौक़ था माना-ए-तजल्ली-ए-दोस्त

उन की शोख़ी हिजाब में गुज़री

करम-ए-बे-हिसाब चाहा था

सितम-ए-बे-हिसाब में गुज़री

वर्ना दुश्वार था सुकून-ए-हयात

ख़ैर से इज़्तिराब में गुज़री

राज़-ए-हस्ती की जुस्तुजू में रहे

रात ताबीर-ए-ख़्वाब में गुज़री

कुछ कटी हिम्मत-ए-सवाल में उम्र

कुछ उमीद-ए-जवाब में गुज़री

किस ख़राबी से ज़िंदगी 'फ़ानी'

इस जहान-ए-ख़राब में गुज़री

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts