मय-ए-कौसर का असर चश्म-ए-सियह-फ़ाम में है's image
1 min read

मय-ए-कौसर का असर चश्म-ए-सियह-फ़ाम में है

Dil ShahjahanpuriDil Shahjahanpuri
0 Bookmarks 38 Reads0 Likes

मय-ए-कौसर का असर चश्म-ए-सियह-फ़ाम में है

साक़ी-ए-मस्त अजब कैफ़ तिरे जाम में है

देखिए फ़ैसला-ए-यास-ओ-तमन्ना क्या हो

सुब्ह-ए-महशर की झलक तीरगी-ए-शाम में है

निगह-ए-मस्त का फिर ज़ोहद-शिकन दूर चले

फिर ढले बादा-ए-सरजोश जो इस जाम में है

छा गए शेवा-ए-बेदाद पे दिलकश नग़्मे

मैं क़फ़स में हूँ कि सय्याद मिरे दाम में है

मुतमइन ख़ुद ही नहीं फिर असर-अंदाज़ हो क्या

पंद-ए-वाइज़ अभी अंदेशा-ए-अंजाम में है

आरज़ू लुत्फ़ तलब इश्क़ सरासर नाकाम

मुब्तला ज़िंदगी-ए-दिल इन्हीं औहाम में है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts