जहाँ तक इश्क़ की तौफ़ीक़ है रंगीं बनाते हैं's image
1 min read

जहाँ तक इश्क़ की तौफ़ीक़ है रंगीं बनाते हैं

Dil ShahjahanpuriDil Shahjahanpuri
0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

जहाँ तक इश्क़ की तौफ़ीक़ है रंगीं बनाते हैं

वो सुनते हैं हम उन को सर-गुज़िश्त-ए-दिल सुनाते हैं

उधर हक़-उल-यक़ीं है अब वो आते अब वो आते हैं

उधर अंजुम मिरी इस ज़ेहनियत पर मुस्कुराते हैं

शब-ए-ग़म और महजूरी ये आलम और मजबूरी

टपक पड़ते हैं आँसू जब वो हम को याद आते हैं

वहीं से दर्स-ए-हुस्न-ओ-इश्क़ का आग़ाज़ होता है

जहाँ से वाक़िआ'त-ए-ज़िंदगी हम भूल जाते हैं

हमें कुछ इश्क़ के मफ़्हूम पर है तब्सिरा करना

इक आह-ए-सर्द को उनवान-ए-शरह-ए-ग़म बनाते हैं

बहा कर अश्क-ए-ख़ूँ खींची थीं जो आईना-ए-दिल में

हम उन मौहूम तस्वीरों को अब रंगीं बनाते हैं

शबाब-ए-ज़िंदगी जल्वों का इक मा'सूम नज़्ज़ारा

हमें ऐ दिल वो अफ़्साने अभी तक याद आते हैं

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts