हुस्न ने मान लिया क़ाबिल-ए-ताज़ीर मुझे's image
1 min read

हुस्न ने मान लिया क़ाबिल-ए-ताज़ीर मुझे

Dil ShahjahanpuriDil Shahjahanpuri
0 Bookmarks 46 Reads0 Likes

हुस्न ने मान लिया क़ाबिल-ए-ताज़ीर मुझे

नज़र आई है मोहब्बत की ये तक़्सीर मुझे

क्यूँ न हो बादा-ए-सर-जोश की तौक़ीर मुझे

मिल गई पीर-ए-ख़राबात से तहरीर मुझे

जल्वा-ए-हुस्न के मफ़्हूम पे जब ग़ौर किया

एक धुँदली सी नज़र आई है तस्वीर मुझे

अब मिरी वहशत-ए-रुस्वा का अजब आलम है

कर दिया आप ने वाबस्ता-ए-ज़ंजीर मुझे

बे-तकल्लुफ़ रुख़-ए-ज़ेबा से उठाए वो नक़ाब

हुस्न ख़ुद पाएगा एक पैकर-ए-तस्वीर मुझे

ज़िंदगी इक नए आलम में नज़र आती है

ले चली आज कहाँ गर्दिश-ए-तक़दीर मुझे

खिच गई दिल-कशी-ए-हुस्न मरी नज़रों में

जी बहलने को मिली आप की तस्वीर मुझे

ज़ुल्फ़-ए-शब-गूँ रुख़-ए-अनवर की सताइश को सिवा

कोई मज़मून न मिला क़ाबिल-ए-तहरीर मुझे

हुस्न-ए-दिलकश के तलव्वुन पे नज़र जब पहुँची

न रहा फिर गिला-ए-गर्दिश-ए-तक़दीर मुझे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts