झरिलागै महलिया, गगन घहराय's image
1 min read

झरिलागै महलिया, गगन घहराय

Dhani DharamdasDhani Dharamdas
0 Bookmarks 90 Reads0 Likes

झरिलागै महलिया, गगन घहराय।
खन गरजै, खन बिजरी चमकै, लहर उठै सोभा बरनि न जाय॥
सुन्न महल से अमरित बरसै, प्रेम अनंद होइ साध नहाय॥
खुली किवरिया मिटी अंधियरिया, धन सतगुरु जिन दिया है लखाय॥
'धरमदास बिनवै कर जोरी, सतगुरु चरन मैं रहत समाय॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts