वर्षा और बच्चे's image
1 min read

वर्षा और बच्चे

Deendayal SharmaDeendayal Sharma
0 Bookmarks 29 Reads0 Likes

वर्षा और बच्चे
छटपट-छटपट वर्षा होती,
खटपट-खटपट गिरते ओले।

गली-गली और हर चौराहे,
उधम मचाते बच्चे डोले।

हा-हा हू-हू ही-ही करते,
बच्चों ने मारी किलकारी।

दूर-दूर तक महकी जैसे,
भाँत-भँतीली खुशबू प्यारी।

वर्षा हुई बंद तो देखा,
इन्द्रधनुष था नभ में प्यारा।

सतरंगी जादू सा लगता,
सबको भाया सबसे न्यारा।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts