पेड़ की प्रार्थना's image
1 min read

पेड़ की प्रार्थना

Deendayal SharmaDeendayal Sharma
0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

पेड़ की प्रार्थना

मुझको तुम मत काटो प्यारे
हम हैं तुम सबके रखवारे ।

हम नभ में बदरा लाते हैं
बरखा फिर हम करवाते हैं
धरती पर छाए हरियाली
खुशियाँ फैले द्वारे-द्वारे ।

प्राणवायु, फल, औषधि देते
बदले में कुछ भी ना लेते
जीवनदाता हम कहलाते
हमसे हैं जग के जन सारे ।

अपने स्वार्थ को त्यागो तुम
मत काटो पछताओगे तुम
हम भी तो हैं जीव जगत के
नाहक बनते क्यूँ हत्यारे ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts