भालू's image
0 Bookmarks 57 Reads0 Likes


ढोलक बाजे ढम ढम ढम
नाचे भालू जी छम छम

दो पैरों पर खड़ा हो गया
ता-ता थैया ता-तिकड़म

दरख़्त पर चढ़ जाए उल्टा
खा के शहद ही लेता दम

लेट जाए धरती पर लटपट
आए न इसको कभी शरम

घने बाल ज्यों ओढ़ा कम्बल
सरदी का इसको ना ग़म.....

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts