बम-बम भोले's image
1 min read

बम-बम भोले

Deendayal SharmaDeendayal Sharma
0 Bookmarks 39 Reads0 Likes

बम-बम भोले, बम-बम भोले,
सब मिल बोलो बम-बम भोले।
कड़-कड़ कड़-कड़ कड़के बिजली,
गड़-गड़ गड़-गड़ गिरते ओले।
बरखा जब आती है तब ये
अपनी बोली में ही बोले.....।

मेंढक अपनी तान सुनाए,
भाँत-भँतीले गीत वो गाए।
छप-छप छप-छप करते बच्चे,
इधर-उधर गलियों में डोले.....।

कागज की सब नाव चलाए,
उछलकूद हुड़दंग मचाए।
जो जीते कहलाए सिकंदर,
सब मिल बोले-बम-बम भोले.....।

बरखा जब हो जाए बंद तो,
सतरंगिया नभ में छा जाए।
बजा के ताली सारे बच्चे,
अपने मन की गाँठें खोले.....।

गड़बड़-गड़बड़ मत कर प्यारे,
मन जीेते जग जीत कहाए।
मार के मन को जीने वाले,
तूं भी अपने मन को धोले .....।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts