तौलगि जिनि मारै तूँ मोहिं-राग: गौरी's image
1 min read

तौलगि जिनि मारै तूँ मोहिं-राग: गौरी

Dadu DayalDadu Dayal
0 Bookmarks 54 Reads0 Likes

राग: गौरी
तौलगि जिनि मारै तूँ मोहिं।
जौलगि मैं देखौं नहिं तोहिं॥टेक॥

इबके बिछुरे मिलन कैसे होइ।
इहि बिधि बहुरि न चीन्है कोइ॥१॥

दीनदयाल दया करि जोइ।
सब सुख-आनँद तुम सूँ होइ॥२॥

जनम-जनमके बंधन खोइ।
देखण दादू अहि निशि रोइ॥३॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts