राम रस मीठा रे's image
1 min read

राम रस मीठा रे

Dadu DayalDadu Dayal
0 Bookmarks 214 Reads0 Likes

राम रस मीठा रे, कोइ पीवै साधु सुजाण।
सदा रस पीवै प्रेमसूँ सो अबिनासी प्राण॥टेक॥

इहि रस मुनि लागे सबै, ब्रह्मा-बिसुन-महेस।
सुर नर साधू स्म्त जन, सो रस पीवै सेस॥१॥

सिध साधक जोगी-जती, सती सबै सुखदेव।
पीवत अंत न आवई, पीपा अरु रैदास।
पिवत कबीरा ना थक्या अजहूँ प्रेम पियास॥३॥

यह रस मीठा जिन पिया, सो रस ही महिं समाइ।
मीठे मीठा मिलि रह्या, दादू अनत न जाइ॥४॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts