बिरहणिकौं सिंगार न भावै's image
1 min read

बिरहणिकौं सिंगार न भावै

Dadu DayalDadu Dayal
0 Bookmarks 80 Reads0 Likes

बिरहणिकौं सिंगार न भावै।
है कोइ ऐसा राम मिलावै॥टेक॥

बिसरे अंजन-मंजन, चीरा।
बिरह-बिथा यह ब्यापै पीरा॥१॥

नौ-सत थाके सकल सिंगारा।
है कोइ पीड़ मिटावनहारा॥२॥

देह-गेह नहिं सुद्धि सरीरा।
निसदिन चितवत चातक नीरा॥३॥

दादू ताहि न भावत आना।
राम बिना भई मृतक समाना॥४॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts