दर्द-ए-दिल पास-ए-वफ़ा जज़्बा-ए-इमाँ होना's image
1 min read

दर्द-ए-दिल पास-ए-वफ़ा जज़्बा-ए-इमाँ होना

Brij Narayan ChakbastBrij Narayan Chakbast
0 Bookmarks 162 Reads0 Likes

दर्द-ए-दिल पास-ए-वफ़ा जज़्बा-ए-इमाँ होना
आदमियत यही है और यही इन्साँ होआ

नौ-गिरफ़्तार-ए-बला तर्ज़-ए-फ़ुग़ाँ क्या जानें
कोई नाशाद सिखा दे इन्हें नालाँ होना

रह के दुनिया में यूँ तर्क-ए-हवस की कोशिश
जिस तरह् अपने ही साये से गुरेज़ाँ होना

ज़िन्दगी क्या है अनासिर् में ज़हूर्-ए-तर्तीब्
मौत क्य है इन्हीं इज्ज़ा का परेशाँ होना

दिल असीरी में भी आज़ाद है आज़ादों का
वल्वलों के लिये मुम्किन नहीं ज़िन्दा होना

गुल को पामाल न कर लाल-ओ-गौहर के मालिक
है इसे तुराह-ए-दस्तार-ए-ग़रीबाँ होना

है मेरा ज़ब्त-ए-जुनूँ जोश-ए-जुनूँ से बढ़कर
नंग है मेरे लिये चाक गरेबाँ होना

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts