सुनौ सखि बाजत है मुरली's image
1 min read

सुनौ सखि बाजत है मुरली

Bhartendu HarishchandraBhartendu Harishchandra
0 Bookmarks 40 Reads0 Likes

सुनौ सखि बाजत है मुरली।
जाके नेंक सुनत ही हिअ में उपजत बिरह-कली।
जड़ सम भए सकल नर, खग, मृग, लागत श्रवन भली।
’हरीचंद’ की मति रति गति सब धारत अधर छली॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts