धन्य ये मुनि वृन्दाबन बासी's image
1 min read

धन्य ये मुनि वृन्दाबन बासी

Bhartendu HarishchandraBhartendu Harishchandra
0 Bookmarks 58 Reads0 Likes

धन्य ये मुनि वृन्दाबन बासी।
दरसन हेतु बिहंगम ह्वै रहे, मूरति मधुर उपासी।
नव कोमल दल पल्लव द्रुम पै, मिलि बैठत हैं आई।
नैनन मूँदि त्यागि कोलाहल, सुनहिं बेनु धुनि माई।
प्राननाथ के मुख की बानी, करहिं अमृत रस-पान।
'हरिचंद' हमको सौउ दुरलभ, यह बिधि गति की आन॥

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts