दीद की तमन्ना में आँख भर के रोए थे's image
1 min read

दीद की तमन्ना में आँख भर के रोए थे

Bharat Bhushan PantBharat Bhushan Pant
0 Bookmarks 793 Reads0 Likes

दीद की तमन्ना में आँख भर के रोए थे

हम भी एक चेहरे को याद कर के रोए थे

सामने तो लोगों के ग़म छुपा लिए अपने

और जब हुए तन्हा हम बिखर के रोए थे

हम से इन अँधेरों को किस लिए शिकायत है

हम तो ख़ुद चराग़ों की लौ कतर के रोए थे

जब तलक थे कश्ती पर ख़ुद को रोक रक्खा था

साहिलों पे आते ही हम उतर के रोए थे

आइने में रोता वो अक्स भी हमारा था

जिस को देख कर अक्सर हम बिफर के रोए थे

याद है अभी तक वो एक शाम बचपन की

जाने क्या हुआ था सब लोग घर के रोए थे

साहिलों पे आती है आज भी सदा उन की

डूबने से कुछ पहले जो उभर के रोए थे

हर तरफ़ थी ख़ामोशी और ऐसी ख़ामोशी

रात अपने साए से हम भी डर के रोए थे

तब पता चला हम को ज़ख़्म कितने गहरे हैं

दर्द के नशेबों में जब उतर के रोए थे

हम ने अपनी आँखों से हादसा वो देखा था

पत्थरों की बस्ती में ज़ख़्म सर के रोए थे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts