उठे तिरी महफ़िल से तो किस काम के उठ्ठे's image
1 min read

उठे तिरी महफ़िल से तो किस काम के उठ्ठे

Bekhud DehlviBekhud Dehlvi
0 Bookmarks 58 Reads0 Likes

उठे तिरी महफ़िल से तो किस काम के उठ्ठे

दिल थाम के बैठे थे जिगर थाम के उठ्ठे

दम भर मिरे पहलू में उन्हें चैन कहाँ है

बैठे कि बहाने से किसी काम के उठ्ठे

उस बज़्म से उठ कर तो क़दम ही नहीं उठता

घर सुब्ह को पहुँचे हैं कहीं शाम के उठ्ठे

है रश्क कि ये भी कहीं शैदा न हों उस के

तुर्बत से बहुत लोग मिरे नाम के उठ्ठे

अफ़्साना-ए-हुस्न उस का है हर एक ज़बान पर

पर्दे न कभी जिस के दर-ओ-बाम के उठ्ठे

आग़ाज़-ए-मोहब्बत में मज़े दिल ने उड़ाए

पूछे तो कोई रंज भी अंजाम के उठ्ठे

दिल नज़्र में दे आए हम इक शोख़ को 'बेख़ुद'

बाज़ार में जब दाम न इस जाम के उठ्ठे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts