क़यामत है जो ऐसे पर दिल-ए-उम्मीद-वार आए's image
1 min read

क़यामत है जो ऐसे पर दिल-ए-उम्मीद-वार आए

Bekhud DehlviBekhud Dehlvi
0 Bookmarks 110 Reads0 Likes

क़यामत है जो ऐसे पर दिल-ए-उम्मीद-वार आए

जिसे वादे से नफ़रत हो जिसे मिलने से आर आए

मिरी बे-ताबियाँ छा जाएँ या-रब उन की तमकीं पर

तड़पता देख लूँ आँखों से जब मुझ को क़रार आए

मिटा दूँ अपनी हस्ती ख़ाक कर दूँ अपने-आपे को

मिरी बातों से गर दुश्मन के भी दिल में ग़ुबार आए

इजाज़त माँगती है दुख़्त-ए-रज़ महफ़िल में आने की

मज़ा हो शैख़-साहिब कह उठें बे-इख़्तियार आए

ख़ुदा जाने कि वो 'बेख़ुद' से इतने बद-गुमाँ क्यूँ हैं

कि हर जलसे में फ़रमाते हैं देखो होशियार आए

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts