क्यूँ कह के दिल का हाल उसे बद-गुमाँ करूँ's image
1 min read

क्यूँ कह के दिल का हाल उसे बद-गुमाँ करूँ

Bekhud DehlviBekhud Dehlvi
0 Bookmarks 29 Reads0 Likes

क्यूँ कह के दिल का हाल उसे बद-गुमाँ करूँ

ये राज़ वो नहीं है जिसे मैं बयाँ करूँ

मुझ को ये ज़िद कि वस्ल का इक़रार तुम से लूँ

तुम को ये हट कि मैं न कभी तुझ से हाँ करूँ

ये कह रही है मुझ से किसी की निगाह-ए-शर्म

फ़ुर्सत अगर हया से मिले शोख़ियाँ करूँ

तू मुझ को आज़मा के वफ़ा-दारियों में देख

मैं बेवफ़ाइयों में तिरा इम्तिहाँ करूँ

उकता गया है शरअ की पाबंदियों से जी

दिल चाहता है बैअत-ए-पीर-ए-मुग़ाँ करूँ

'बेख़ुद' रफ़ीक़ है न कोई हम-तरीक़ है

दिल पर जो कुछ गुज़रती है किस से बयाँ करूँ

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts