आप हैं बे-गुनाह क्या कहना's image
1 min read

आप हैं बे-गुनाह क्या कहना

Bekhud DehlviBekhud Dehlvi
0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

आप हैं बे-गुनाह क्या कहना

क्या सफ़ाई है वाह क्या कहना

उस से हाल-ए-तबाह क्या कहना

जो कहे सुन के वाह क्या कहना

हश्र में ये उन्हें नई सूझी

बन गए दाद-ख़्वाह क्या कहना

उज़्र करना सितम के बाद तुम्हें

ख़ूब आता है वाह क्या कहना

तुम न रोको निगाह को अपनी

हम करें ज़ब्त-ए-आह क्या कहना

तुझ से अच्छे कहाँ ज़माने में

वाह ऐ रश्क-ए-माह क्या कहना

ग़ैर पर लुत्फ़-ए-ख़ास का इज़हार

मुझ से टेढ़ी निगाह क्या कहना

ग़ैर से माँग कर सबूत-ए-वफ़ा

बन गए ख़ुद गवाह क्या कहना

दिल भी ले कर नहीं यक़ीन-ए-वफ़ा

है अभी इश्तिबाह क्या कहना

बल्बे चितवन तिरी मआज़-अल्लाह

उफ़ रे टेढ़ी निगाह क्या कहना

उन गुनों पर नजात की उम्मीद

'बेख़ुद'-ए-रू-सियाह क्या कहना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts