अदू के ताकने को तुम इधर देखो उधर देखो's image
1 min read

अदू के ताकने को तुम इधर देखो उधर देखो

Bekhud DehlviBekhud Dehlvi
0 Bookmarks 35 Reads0 Likes

अदू के ताकने को तुम इधर देखो उधर देखो

मगर हम तुम को देखे जाएँ तुम चाहो जिधर देखो

लड़ाई से यूँही तो रोकते रहते हैं हम तुम को

कि दिल का भेद कह देती है तुम चाहो जिधर देखो

अदाएँ देखने बैठे हो क्या आईने में अपनी

दिया है जिस ने तुम जैसे को दिल उस का जिगर देखो

सवाल-ए-वस्ल पर कुछ सोच कर उस ने कहा मुझ से

अभी वादा तो कर सकते नहीं हैं हम मगर देखो

न करना तर्क 'बेख़ुद' मोहतसिब के डर से मय-ख़्वारी

कहीं धब्बा लगा लेना न अपने नाम पर देखो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts