यूँही रहा जो बुतों पर निसार दिल मेरा's image
1 min read

यूँही रहा जो बुतों पर निसार दिल मेरा

Bekhud BadayuniBekhud Badayuni
0 Bookmarks 50 Reads0 Likes

यूँही रहा जो बुतों पर निसार दिल मेरा

करेगा मुझ को ज़माने में ख़्वार दिल मेरा

चली चली मिज़ा-ए-अश्क-बार आँख मिरी

जला जला नफ़स-ए-शोला-बार दिल मेरा

अजीब मूनिस ओ हमदर्द ओ ज़ी-मुरव्वत था

ग़रीक़-ए-रहमत-ए-पर्वरदिगार दिल मेरा

वफ़ूर-ए-शर्म से वाँ इज्तिनाब मद्द-ए-नज़र

हुजूम-ए-शौक़ से याँ बे-क़रार दिल मेरा

बना दिया उसे ख़ुद-बीन ओ ख़ुद-नुमा 'बेख़ुद'

हुआ है आईना-ए-हुस्न-ए-यार दिल मेरा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts