ऐ हुस्न-ए-बेपरवाह तुझे शबनम कहूँ शोला कहूँ - बशीर बद्र's image
1 min read

ऐ हुस्न-ए-बेपरवाह तुझे शबनम कहूँ शोला कहूँ - बशीर बद्र

Bashir Badr (बशीर बद्र)Bashir Badr (बशीर बद्र)
0 Bookmarks 381 Reads0 Likes
ऐ हुस्न-ए-बे-परवाह तुझे शबनम कहूँ शोला कहूँ
फूलों में भी शोख़ी तो है किसको मगर तुझ-सा कहूँ
गेसू उड़े महकी फ़िज़ा जादू करें आँखे तेरी
सोया हुआ मंज़र कहूँ या जागता सपना कहूँ
चंदा की तू है चांदनी लहरों की तू है रागिनी
जान-ए-तमन्ना मैं तुझे क्या- क्या कहूँ क्या न कहूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts