एक बरस बीत गया's image
1 min read

एक बरस बीत गया

Atal Bihari VajpayeeAtal Bihari Vajpayee
0 Bookmarks 136 Reads1 Likes

एक बरस बीत गया

झुलासाता जेठ मास
शरद चांदनी उदास
सिसकी भरते सावन का
अंतर्घट रीत गया
एक बरस बीत गया

सीकचों मे सिमटा जग
किंतु विकल प्राण विहग
धरती से अम्बर तक
गूंज मुक्ति गीत गया
एक बरस बीत गया

पथ निहारते नयन
गिनते दिन पल छिन
लौट कभी आएगा
मन का जो मीत गया
एक बरस बीत गया

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts