ज़िंदगी गो कुश्ता-ए-आलाम है's image
1 min read

ज़िंदगी गो कुश्ता-ए-आलाम है

Anand Narain MullaAnand Narain Mulla
0 Bookmarks 55 Reads0 Likes

ज़िंदगी गो कुश्ता-ए-आलाम है
फिर भी राहत की उम्मीद-ए-ख़ाम है

हाँ अभी तेरी मोहब्बत ख़ाम है
तेरे दिल में काविश-ए-अंजाम है

इश्क़ है मैं हूँ दिल-ए-नाकाम है
इस के आगे बस ख़ुदा का नाम है

आ कहाँ है तू फ़रेब-ए-आरज़ू
आज ना-कामी से लेना काम है

मैं वही हूँ दिल वही अरमाँ वही
एक धोका गर्दिश-ए-अय्याम है

अपने जी में ये के दुनिया छोड़ दें
और दुनिया को हमीं से काम है

जल चुके चश्म-ए-अइज़्ज़ा में चराग़
सो भी जा 'मुल्ला' के वक़्त-ए-शाम है

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts