खुसरो की दरगाह's image
1 min read

खुसरो की दरगाह

AnamikaAnamika
0 Bookmarks 41 Reads0 Likes


खुसरो की ही मज़ार के बाहर
बैठी हैं विस्थापन-बस्ती की कुछ औरतें सटकर!
भीतर प्रवेश नहीं जिनका किसी भी निज़ाम में —
एका ही होता है उनका जिरह-बख़्तर ।
हयात-ए-तय्याब, हयात-ए-हुक्मी !

औलिया के मज़ार के झरोखे की
फूलदार जाली पर
क्या जाने कब से ऊँचा बँधा है जो
मन्नतों का लाल धागा,
मौसमों की मार सहकर भी
सब्र नहीं खोता !
ढीली नहीं पड़ती कभी गाँठ उसकी !

उस गाँठ-सी ही बुलन्द और कसी हुई बैठी हैं दरगाह पर
दिल्ली की गलियों की
बूढ़ी कुँवारियाँ,
विधवाएँ, युद्ध और दँगों के भेड़िया-मुखों की
अधखाई, आधी लथेड़ी
ये औरतें !

बैठी हुई हैं वे खुसरो की दरगाह के बाहर
जिनसे सीखी खुसरो ने
अपनी मुकरियों की भाषा ।
घरेलू बिम्बों से भरी हुई
अंतरँग बातचीत की भाषा में ही
लिखी जा सकती हैं कविताएँ ऐसी
जो सीधी दिल में उतर आएँ
— सीखी था खुसरो ने
दिल्ली की गलियों में इन्हीं औरतों से ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts