रात ऊँघ रही है's image
1 min read

रात ऊँघ रही है

Amrita PritamAmrita Pritam
0 Bookmarks 1279 Reads4 Likes

रात ऊँघ रही है...
किसी ने इन्सान की
छाती में सेंध लगाई है
हर चोरी से भयानक
यह सपनों की चोरी है।

चोरों के निशान —
हर देश के हर शहर की
हर सड़क पर बैठे हैं
पर कोई आँख देखती नहीं,
न चौंकती है।
सिर्फ़ एक कुत्ते की तरह
एक ज़ंजीर से बँधी
किसी वक़्त किसी की
कोई नज़्म भौंकती है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts