अब आए न मोरे साँवरिया's image
1 min read

अब आए न मोरे साँवरिया

Amir KhusrauAmir Khusrau
0 Bookmarks 135 Reads0 Likes

अब आए न मोरे साँवरिया, मैं तो तन मन उन पर लुटा देती।
घर आए न मोरे साँवरिया, मैं तो तन मन उन पर लुटा देती।
मोहे प्रीत की रीत न भाई सखी, मैं तो बन के दुल्हन पछताई सखी।
होती न अगर दुनिया की शरम मैं तो भेज के पतियाँ बुला लेती।
उन्हें भेज के सखियाँ बुला लेती।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts