मैं रो के आह करूँगा जहाँ रहे न रहे's image
1 min read

मैं रो के आह करूँगा जहाँ रहे न रहे

Ameer MinaiAmeer Minai
0 Bookmarks 42 Reads0 Likes

मैं रो के आह करूँगा जहाँ रहे न रहे

ज़मीं रहे न रहे आसमाँ रहे न रहे

रहे वो जान-ए-जहाँ ये जहाँ रहे न रहे

मकीं की ख़ैर हो या रब मकाँ रहे न रहे

अभी मज़ार पर अहबाब फ़ातिहा पढ़ लें

फिर इस क़दर भी हमारा निशाँ रहे न रहे

ख़ुदा के वास्ते कलमा बुतों का पढ़ ज़ाहिद

फिर इख़्तियार में ग़ाफ़िल ज़बाँ रहे न रहे

ख़िज़ाँ तो ख़ैर से गुज़री चमन में बुलबुल की

बहार आई है अब आशियाँ रहे न रहे

चला तो हूँ पए इज़हार-ए-दर्द-ए-दिल देखूँ

हुज़ूर-ए-यार मजाल-ए-बयाँ रहे न रहे

'अमीर' जमा हैं अहबाब दर्द-ए-दिल कह ले

फिर इल्तिफ़ात-ए-दिल-ए-दोस्ताँ रहे न रहे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts