जब से बुलबुल तू ने दो तिनके लिए's image
1 min read

जब से बुलबुल तू ने दो तिनके लिए

Ameer MinaiAmeer Minai
0 Bookmarks 30 Reads0 Likes

जब से बुलबुल तू ने दो तिनके लिए

टूटती हैं बिजलियाँ इन के लिए

है जवानी ख़ुद जवानी का सिंगार

सादगी गहना है इस सिन के लिए

कौन वीराने में देखेगा बहार

फूल जंगल में खिले किन के लिए

सारी दुनिया के हैं वो मेरे सिवा

मैं ने दुनिया छोड़ दी जिन के लिए

बाग़बाँ कलियाँ हों हल्के रंग की

भेजनी है एक कम-सिन के लिए

सब हसीं हैं ज़ाहिदों को ना-पसंद

अब कोई हूर आएगी इन के लिए

वस्ल का दिन और इतना मुख़्तसर

दिन गिने जाते थे इस दिन के लिए

सुब्ह का सोना जो हाथ आता 'अमीर'

भेजते तोहफ़ा मोअज़्ज़िन के लिए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts