कर के बीमार दी दवा तू ने's image
1 min read

कर के बीमार दी दवा तू ने

Altaf Hussain HaliAltaf Hussain Hali
0 Bookmarks 101 Reads0 Likes

कर के बीमार दी दवा तू ने

जान से पहले दिल लिया तू ने

रह-रव-ए-तिश्ना-लब न घबराना

अब लिया चश्मा-ए-बक़ा तू ने

शैख़ जब दिल ही दैर में न लगा

आ के मस्जिद से क्या लिया तू ने

दूर हो ऐ दिल-ए-मआल अंदेश

खो दिया उम्र का मज़ा तू ने

एक बेगाना वार कर के निगाह

क्या किया चश्म-ए-आश्ना तू ने

दिल ओ दीं खो के आए थे सू-ए-दैर

याँ भी सब कुछ दिया ख़ुदा तू ने

ख़ुश है उम्मीद-ए-ख़ुल्द पर 'हाली'

कोई पूछे कि क्या किया तू ने

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts