शक्ल जब बस गई आँखों में तो छुपना कैसा's image
1 min read

शक्ल जब बस गई आँखों में तो छुपना कैसा

Akbar AllahabadiAkbar Allahabadi
0 Bookmarks 106 Reads0 Likes

शक्ल जब बस गई आँखों में तो छुपना कैसा
दिल में घर करके मेरी जान ये परदा कैसा

आप मौजूद हैं हाज़िर है ये सामान-ए-निशात
उज़्र सब तै हैं बस अब वादा-ए-फ़रदा कैसा

तेरी आँखों की जो तारीफ़ सुनी है मुझसे
घूरती है मुझे ये नर्गिस-ए-शेहला कैसा

ऐ मसीहा यूँ ही करते हैं मरीज़ों का इलाज
कुछ न पूछा कि है बीमार हमारा कैसा

क्या कहा तुमने, कि हम जाते हैं, दिल अपना संभाल
ये तड़प कर निकल आएगा संभलना कैसा

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts