दम लबों पर था दिलेज़ार के घबराने से's image
1 min read

दम लबों पर था दिलेज़ार के घबराने से

Akbar AllahabadiAkbar Allahabadi
0 Bookmarks 135 Reads0 Likes

दम लबों पर था दिलेज़ार के घबराने से
आ गई है जाँ में जाँ आपके आ जाने से

तेरा कूचा न छूटेगा तेरे दीवाने से
उस को काबे से न मतलब है न बुतख़ाने से

शेख़ नाफ़ह्म[1] हैं करते जो नहीं क़द्र[2] उसकी
दिल फ़रिश्तों के मिले हैं तेरे दीवानों से

मैं जो कहता हूँ कि मरता हूँ तो फ़रमाते हैं
कारे-दुनिया न रुकेगा तेरे मर जाने से

कौन हमदर्द किसी का है जहाँ में 'अक़बर'
इक उभरता है यहाँ एक के मिट जाने से

१. नासमझ
२.इज़्ज़त

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts