बहसें फिजूल थीं यह खुला हाल देर में's image
1 min read

बहसें फिजूल थीं यह खुला हाल देर में

Akbar AllahabadiAkbar Allahabadi
0 Bookmarks 100 Reads0 Likes

बहसें फिजूल थीं यह खुला हाल देर में
अफ्सोस उम्र कट गई लफ़्ज़ों के फेर में

है मुल्क इधर तो कहत जहद, उस तरफ यह वाज़
कुश्ते वह खा के पेट भरे पांच सेर मे

हैं गश में शेख देख के हुस्ने-मिस-फिरंग
बच भी गये तो होश उन्हें आएगा देर में

छूटा अगर मैं गर्दिशे तस्बीह से तो क्या
अब पड़ गया हूँ आपकी बातों के फेर में

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts