हाल खुलता नहीं जबीनों से's image
1 min read

हाल खुलता नहीं जबीनों से

Ada JafriAda Jafri
0 Bookmarks 99 Reads0 Likes

हाल खुलता नहीं जबीनों से
रंज उठाए हैं जिन क़रीनों से

रात आहिस्ता-गाम उतरी है
दर्द के माहताब ज़ीनों से

हम ने सोचा न उस ने जाना है
दिल भी होते हैं आब-गीनों से

कौन लेगा शरार-ए-जाँ का हिसाब
दस्त-ए-इमरोज़ के दफ़ीनों से

तू ने मिज़गाँ उठा के देखा भी
शहर ख़ाली न था मकीनों से

आश्ना आश्ना पयाम आए
अजनबी अजनबी ज़मीनों से

जी को आराम आ गया है 'अदा'
कभी तूफ़ान कभी सफ़ीनों से

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts